छत्तीसगढ़ी फिल्म अभिनेत्री उपासना वैष्णव ने सड़क पर लगाई कपड़े की दुकान, कहा – कोरोना की मार ने आर्थिक परिस्थिति बिगाड़ दिया

 छत्तीसगढ़ी फिल्म अभिनेत्री उपासना वैष्णव ने सड़क पर लगाई कपड़े की दुकान, कहा – कोरोना की मार ने आर्थिक परिस्थिति बिगाड़ दिया

एंटरटेनमेंट डेस्क तोपचंद। छत्तीसगढ़ी फिल्म अभिनेत्री उपासना वैष्णव ने कोरोना की मार से उभरने के लिए अभिनय छोड़ धमधा नाका के पास सिकोला भाटा बाजार में सड़क पर कपड़े की दुकान लगी ली है। उपासना ‘झन भूलो माँ बाप ल’, ‘मया’, ‘आई लव यू’, हंस झन पगली फंस जबे’ और ‘वेब सीरिज चमन बाहर’ जैसी डेढ़ सौ से अधिक सुपरहिट फिल्मों में माँ और भाभी का किरदार निभा चुकी है।

Header Ad

लॉकडाउन में काम बंद होने के बाद उपासना वैष्णव बेरोजगारी और आर्थिक तंगी के मार से गुजर रही थी, परिवार चलाने वाली वह घर में एकलौती है, जिसके सामने हर रोज नई चुनौतियां थी। लेकिन उपासना हार मानने वालों में से नहीं थी और हालात के आगे मजबूती से खड़े होकर अब कपड़े की दुकान खोली है।

उपासना बताती है कि उन्हें कपड़े की दुकान खोले 12 दिन हो गए हैं, जहां वह बड़ों और बच्चों के कपड़ा रखती है। उनका कहना है कि सामने दिवाली है और पिछले 8 महीने से कोरोना काल में काम बंद है। घर की आर्थिक परिस्थिति ठीक नहीं है, इसलिए उन्होंने कपड़े की दुकान खोली है। उम्मीद है दिवाली में उनकी अच्छी आमदनी हो जाएगी।

उपासना आगे बताती हैं कि उनके पति करीब छः साल से बीमार रहते हैं, इस वजह से उनका काम छूट गया है। उपासना अपने बड़े बेटे को पहले ही सड़क दुर्घटना में गंवा चुकी है। वह दुनिया में होता तो घर की स्थिति सुधारने में मदद करता। छोटा बेटा अभी कॉलेज की पढ़ाई कर रहा है, जिसके पढ़ाई का खर्च भी है। पति के दवाई का खर्च, घर चलाने का खर्च यह सब के वहन के लिए उन्होंने छोटे से कपड़े की दुकान खोली है।

बता दें छत्तीसगढ़ी फिल्म जगत में कोरोना का संक्रमण इस कदर हावी हुआ कि फिल्म कलाकार आर्थिक संकट के दौर से गुजरने लगे है और अब इससे उभरने के लिए फिल्मी कलाकार अभिनय को छोड़कर अन्य पेशे से अपने परिवार के भरन-पोषण के लिए पैसे जुटाने में लगे हुए।

Header Ad

Shrikant Baghmare

Related post

Open chat
Join Us On WhatsApp