सीबीएसई ने 9वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं के परीक्षा पैटर्न में किया बड़ा बदलाव, योग्यता आधारित प्रश्न जोड़े

 सीबीएसई ने 9वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं के परीक्षा पैटर्न में किया बड़ा बदलाव, योग्यता आधारित प्रश्न जोड़े
[responsivevoice_button voice="Hindi Female"]

नेशनल डेस्क, तोपचंद। नई शिक्षा नीति के तहत केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने अगले शैक्षणिक सत्र 2021-22 के लिए अपने एग्जाम पैटर्न में बड़े बदलाव किया है। गुरुवार को सीबीएसई द्वारा जारी किए गए नोटीफिकेशन के अनुसार दसवीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा में अब लघु (शोर्ट )और दीर्घ (लॉन्ग) उत्तरीय प्रश्न दस फीसदी कम पूछे जायेंगे। अभी तक दसवीं में लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रशन 70 फीसदी पूछे जाते थे। वहीं 12वीं में 60 फीसदी लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न रहते थे। दसवीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा में योग्यता आधारित प्रश्न जोड़े गए हैं।

Header Ad

विद्यार्थियों में सोचने की क्षमता का विकास हो, इसके लिए अब नौंवी और 11वीं की वार्षिक परीक्षा और बोर्ड परीक्षा में योग्यता आधारित प्रश्नों को शामिल किया जाएगा। इसमें नौंवी और दसवीं बोर्ड में 30 फीसदी और 12वीं के बोर्ड परीक्षा में 20 फीसदी क्षमता वाले प्रश्न होंगे। बोर्ड जल्द नये पैटर्न पर ही सैंपल पेपर जारी करेगा। इसी पैटर्न पर अब स्कूलों को पढ़ाने का भी निर्देश दिया गया है।

नौंवी और दसवीं में योग्यता आधारित प्रश्न 30 फीसदी रहेंगे| इसमें मल्टीपल च्वाइस, केस स्टडी, इंटीग्रेटेड आदि प्रकार के प्रश्न शामिल रहेंगे| 20 अंक के वस्तुनिष्ठ प्रश्न रहेंगे| लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न 60 फीसदी से घटा कर अब 50 फीसदी पूछे जायेंगे।
वहीं 11वीं और 12वीं में क्षमता बेस्ड 20 फीसदी प्रश्न रहेंगे| इसमें केस स्टडी, मल्टीपल च्वाइस, इंटीग्रेटेड प्रकार के प्रश्न रहेंगे| 20 अंक के वस्तुनिष्ठ प्रश्न रहेंगे| लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न अब 70 फीसदी से घटा कर 60 फीसदी कर दिए गए हैं।

Header Ad

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
Join Us On WhatsApp