66 हजार बच्चे नहीं भर पाए छात्रवृत्ति फॉर्म , वंचित छात्रों को फिर से मौका देने पर विचार: शिक्षा मंत्री

 66 हजार बच्चे नहीं भर पाए छात्रवृत्ति फॉर्म , वंचित छात्रों को फिर से मौका देने पर विचार: शिक्षा मंत्री

रायपुर तोपचंद | लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा सोमवार को  छात्रवृत्ति पोर्टल के बंद होने के कारण 66 हजार छात्र, छात्रवृत्ति फॉर्म नहीं  भर पाए इस पूरे मामले की शिकायत शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह से भी की गई थी , जवाब में उन्होंने कहा की इससे वंचित छात्रों की संख्या ज़्यादा है, इसलिए विभाग विचार कर रहा है कि वंचित छात्रों को मौक़ा दिया जाए, इस पर चर्चा की जाएगी।

Header Ad

 

Header Ad

योजना का लाभ मिले इसके लिए रास्ता निकाला जाएगा। छात्रवृत्ति योजना छात्र-छात्राओं के विशेष सहायता के लिए है, ताकि ये मिलने वाली राशि से पढ़ाई लिखाई के सामाग्री ख़रीद सकें, मंत्री प्रेमसाय ने कहा।

 

 

मिली जानकारी के अनुसार स्कूलों में छात्रवृत्ति के लिए 22,13,470 छात्रों की संख्या अभी दर्ज है। पोर्टल में अंतिम तारीख़ तक 21,46891 विद्यार्थियों ने पंजीयन कराया था ।
ऐसे में  66 हज़ार 579 विद्यार्थियों पर योजना से वंचित होने का खतरा बढ़ गया है। प्रदेश के सिर्फ़ 5 जिलों ने सौ प्रतिशत रजिस्ट्रेशन किया है। ये पांच जिले कोरिया, धमतरी, दंतेवाड़ा, सुकमा एवं बालोद हैं। जबकि 23 जिलों में से कहीं 7 फीसदी तो कहीं 20 फीसदी ही पंजीयन हो पाया। इनमें सबसे कम सूरजपुर, बलरामपुर जिला में रजिस्ट्रेशन किया गया।

 

डीपीआई जितेंद्र शुक्ला ने बताया कि इस साल फार्म भरने के लिए 31 दिसंबर अंतिम तिथि तय की गई थी। तब तक बच्चों को फार्म भरने के साथ साथ प्राचार्यों को भी अपलोड करना था। इसमें प्राचार्यों को पासबुक वेरिफिकेशन जैसे काम भी करने थे। इसमें 5-6 जिलों के डीईओ और प्राचार्यों के द्वारा ढिलाई बरती जा रही थी जिसके लिए उन्हें चेतावनी भी दी गई थी कि शनिवार तक सभी काम पूरे कर लिए जाएं। इसके बाद भी तेजी न आने पर आज पोर्टल को होल्ड किया गया था। और ढिलाई बरतने वाले डीईओ और प्राचार्यों को कारण बताओ नोटिस दी गई है।अंत में उन्होंने कहा कि किसी भी बच्चे को पेमेंट में कोई दिक्कत नहीं आएगी।

Header Ad

Shrikant Baghmare

Related post

Open chat
Join Us On WhatsApp